मैं वो नही

मैं वो नही
जो मुझसे मेरी परछाई को घटाने के बाद बचता है
मैं वो भी नही
जिसपे शाम की धूप से तुम्हारी परछाई आ के गीरती है
मैं तुम्हारी उम्मीद और मेरे एहसासों की पैदायीश नही
मैं तुम्हारे हासील की एक मीसाल भी नही

मुझे पता है हर वो मुकम्मल सोच
जो मैं नही

पर मेरे मुकम्मल जहां का
दरमीयां हो मालूम जिसे
वो भी तो मैं नही

Advertisements

2 thoughts on “मैं वो नही

  1. Jodi o aami Bangladeshi , hindi porte jani na , Sydney te jekhane aami amar Indian friend der sathe thaki tader ek jon banglay bujhaye boleche, khubi chomotkar legeche, tobe ha banglay hole arro daruun vhabe bujhte partam, Dhonnobad.==Dinno==

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s