कहानी

Till date I haven’t wrote a single short story … but can that stop me  from dreaming that there will be a day when I will publish my book of short stories ? So, without writing a single story I wrote the preface my book which I dream to publish some day 🙂 ……….. Ameen !!

कहानियाँ .. हम में से किसी से जुदा नहीं .. हर एक की अपनी एक कहानी होती ही .. जो उसके शक्शियत को बयान करती हैं और साथ ही उससे जुडी घटनाक्रम का वर्णन करती है … और ऐसी कई शक्शियत मिल जाये तो कहानी कुछ और रंगीन हो जाती है .. कुछ और घटनाये जुड़ जाये तो रोमांच थोड़ा और बढ जाता है .. हर कहानी की एक शुरुवात होती है और एक अंत … सूत्रधार आपको इन कहानियों के माध्यम से अपनी कल्पना में रची बसी दुनिया की सैर कराता है ..
अब तक मैंने जो बोला उसमे कुछ भी नयापन नहीं था .. क्यूंकि मेरी कहानी के पत्रों में कुछ नया नहीं हैं …ना ही वह ऐसे घटनाक्रम से गुजरे ही जो अब तक घटी ही न हो .. फिर आप मेरी कहानी में रूचि क्योँ लेंगे ? शायद इसलिए की एक अदने इंसान की जीवनी हमे हमारे कुछ पाने की उम्मीद और कुछ खो जाने की अफ़सोस की बीच की निरंतन कड़ी लगती हैं … हमे हर मामूली इंसान की हार और जीत में अपना अक्स दिखता हैं … क्यूंकि कही न कही हम सब बेहद मामूली हैं और वही मामूली रूप से हम अपने आप को सबसे ज्यादा जोड़ पाते हैं .. एक मोड़ पे आके हर हार और हर जीत थम जाती हैं 
… आखिर में कुछ रह जाती हैं तो बस कहानियाँ !
Advertisements

2 thoughts on “कहानी

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s